My housemaid Raani’s Birthday Bash

My housemaid Raani’s Birthday Bash

Hello friends,

After a week of abstinence from sex with her, I gave some rest and time, lately she has noticed that I am getting bored of her, now its LUST, she needs me to fulfill her desires of the flesh and vice versa. But I wanted to be dead sure that it’s only me who’s fucking her, I don’t want any competitors or some illness, so I devised a plan to find out.

It was 8Am and She came to work as usual; she was well dressed and was wearing makeup, I asked her “क्या बात है, किस पे बिजली गिराना है?  बड़ी सजधज के आई है?” she looked at me puzzled and answered, “नहीं तो ऐसा कुछ नहीं मैं किस पे क्या करूंगी ऐसे काम नहीं करती मैं, यह काम किये तो जीना मुश्किल हो जायेगा,”

I said” तो ये मेरे साथ क्या है?

She was taken aback” क्या मतलब? तू कहना क्या चाहता है, की मैं यह काम करती हू? ये सब तूने शुरू किया था अगर याद हो तो, वो तो मेरा इस घर में बहुत पहले से काम करती हू और तुझे बचपन से जानती हू, की मेरे से ये गलती हो गयी, नहीं तो अगर आगे बता देती तो सोच तेरा क्या होता?

I further poked her” ठीक है मैंने शुरुआत करि तो तू भी तो रोक सकती थी, तूने भी तो हामी भरी तभी तो इतना सब कुछ हो गया”,

She “क्यों मैंने रोका नहीं था? तू ही ना माना,” तू ही लिपट रहा था, हाँ मेरी गलती यह है की मैं तेरे बातों में आ गयी,

She started sobbing, I knew she was not into such stuff, was clean,

I pacified her” अरे रानी इस में रोने वाली क्या बात है, मैं तो ऐसे ही, मज़ाक कर रहा था,” I hugged her and kissed her saying “अच्छा रो मत , she was silent, she said” तुझे पता नहीं है, तूने क्या के दिया, मुझे पता है की मैं रमेश के सामने कैसे जाती हु, मैं उसे भी धोका दे रही हूँ, और अपने आप को भी, तू तो कल अपना घर बसा लेगा और मुझे भूल जायेगा पर मैं तुझे कभी नहीं भूल पाऊँगी,” और मैं सजी इसलिए हूँ क्योंकी आज मेरा जन्मदिन है और मेरे घर में किसी को कोई परवाह नहीं है. I felt sorry, I tried to make it up for her by hugging her and giving her a big kiss. She didn’t respond, maybe she felt bad about what I said, so to cheer her up I planned to celebrate her birthday, I left her on a excuse” अच्छा रानी मुझे थोड़ा काम है मैं अभी दस मिनट में आता हूँ  जाना मत,”. I went to the bakery and got some pastries and cold drinks, when I came back she was still there working. I slipped into my room and arranged all the eatables, and called her inside,

She came” हाँ बोल क्या हुआ अब क्या चाइये,मुझे बहुत काम है,” she looked at pastries and then at me, all her sadness vaporized, “क्या ये मेरे लिए किया तूने?” I smiled and said” तू मेरे लिया इतना करती है तो थोड़ा मैंने भी किया,. She was very Happy, she came and hugged me hard. I said “चलो जल्दी से केक काटो,” she picked the cake and offered me to eat, I took a bite and gave the rest to her, and applied it on her cheeks and passionately licked it off she looked at me naughtily, अच्छा लगा? I said” बहुत अच्छा लगा तू बता तुझे कैसे लगा,

She” मैं तो बहुत ख़ुश हु आज तक ये सब मेरे लिए किसी ने नहीं किया, तूने आज मुझे बहुत ख़ुश कर दिया,

I” मैं केक की बात कर रहा था, तू कहाँ चली गयी,”

She” वो भी बहुत अच्छा था, बस क्रीम कहीं और से चाटी होती तो और अच्छा लगता, and winked at me,

She looked very inviting, in a maroon salwar kameez was tight only where it was needed, and her hair loosely bound, her deep cleavage showing. I went near her, and lightly touched her ear lobes and started chewing lightly on them; she was having goose bumps, she moaned softly, हम्म सुन मुझे प्यार कर जैसे मर्ज़ी कर, मैं तेरी हूँ ,” I was holding her from behind and my hands exploring her as I nibbled on her ear lobes, she smelled fresh, my hand held her big boobs firmly, as she dropped her dupatta to the floor, I kept  pressing her boobs slowly,

She  “अहह साहिल तूने मुझ पे यह क्या जादू कर दिया है, तेरा हाथ लगते ही मेरा शरीर जवाब दे जाता है, मैं तेरी हू, मुझे प्यार कर.” Her breathing was getting heavier; now let me put this in a desi language. उसकी सांसे गहरी हो रही थी,

She ” हाँ साहिल हाँ मुझे प्यार कर और ज़ोर से आज जो करना है कर मेरे साथ बस मुझे प्यार कर”. मैं उसे गले पे चूमने लगा मैंने उसे कमर से पकड़ के खींच लिया, वो मेरे से ज़ोर से टकराई .

She” हाँ मेरे राजा ऐसे ही प्यार कर मुझे आज कोई कमी मत छोडियो भर ले अपनी बाँहों में मुझे, अहह अह्ह्ह अह्ह्ह  ,मैं उसे चूमे जा रहा था गले पे कानो पे, और मेरे हाथ उसके मम्मो को सहला रहे थे, वो हाथ घुमा के पैंट के ऊपर से ही मेरे लण्ड को पकड़ रही थी, मैंने उसे घुमाया, और उसका चेहरा हाथों में लेके ,उसके होटों को चूमते हुए बोला ” रानी आज बताओ , जैसे तुम्हे अच्छा लगता है आज वैसे करूँगा.”

She” तू जो भी करता है मुझे सब अच्छा लगता है, ऐसे हे नहीं मैं तेरे पास आती हू. कह के वो मेरे गले में हाथ डाल के लिपट गयी,”

Me (jokingly)” अब कौन लिपट रहा है?”

She” अब ऐसा ही है , तू भगा भी देगा तो मैं फिर भी आउंगी ,” फिर वो बोली तेरे से कुछ मांगूगी तो क्या देगा? मैंने सोचते हुई कहा अगर बस में हुआ तो ज़रूर, जो भी मांगे सोच समाज के रिश्ता खराब नहीं होना चाइये.

She” नहीं नहीं ऐसा कुछ नहीं है , बस कुछ बात थी जो बोलना च रही थी.” खैर छोड़ बाद में बात करते है, पहले जो काम कर रहा है उस पे ध्यान दे. उसने मेरी टीशर्ट उतार दी और अपने नाखून से मेरे निप्पल को सहलाने लगी.एक करंट सा दौड़ गया शरीर में, कम्पन सी छूट गयी.

She” क्या हुआ ? तू कांप क्या गया?” मै उसकी कमीज उतारने लगा,उसने हाथ ऊपर करके उतारने दिया, उसने काले रंग की ब्रा पहन राखी थी, और गज़ब लग रही थी, वो मेरे गले लग गयी और मैंने उसकी ब्रा खोलके उतार दी,उसने ब्रा साइड में फेकि और मेरे गले लग अपने मुम्मो को मेरे सीने से रगड़ने लगी,उसके खड़े निप्पल मेरे निप्पल से रगड़ रहे थे,वो मुम्मो हो हाथ में लेके मेरे निप्पल से अपने निप्पल रगड़ रही थी, मैं झुक के उसके निप्पल पे हलके हलके जीब फेरने लगा, उसके निप्पल पूरे खड़े हो गए थे. मैं उसके मुम्मो को हाथ में लेके उसके निप्पल चूसने लगा.

She” हाँ राजा ऐसे ही पी तू इन्हे , चूस ठीक से, काट मेरे निप्पल को,” मैंने निप्पल को हलके से दांतों में दबाया, उसके गहरी आह भरी और मेरे मुँह मुम्मो पे दबाने लगी. मैं उसके मुम्मो को बारी बारी चूसने लगा, वो मेरे जीन्स का बटन खोलने की कोशिश कर रही थी, मैंने उसके सलवार का नाडा खोल दिया, उसेने पैरों से सलवार को साइड किया उसने काले रंग की कच्छी पहनी हुई थी, मैंने उसके नीचे हाथ लगाया वो गीली हो चुकी थी, वो अब भी मेरा बटन खोलने की कोशिश कर रही थी, उत्तेजना में उसके हाथ कांप रहे थे, मैंने उसे बटन खोल के दिया, उसने जल्दी से मेरी जीन्स उतारी और मुझे बिस्तर पे द्खेल दिया, वो कच्छी उतारने लगी, मैंने उसे रोकते हुए कहा ये मैं उतारूंगा

वो आई और उसने मुझे नंगा कर दिया, लण्ड अभी पूरा खड़ा नहीं हुआ था, लण्ड को देख बोली , क्यों आज कल अकेले में हाथ चलता है क्या?

Me ” नहीं तो क्यों?”

She ” नहीं पहले तो इतने में ये पूरा खड़ा हो जाता था, अब क्या हुआ? कही और बहा रहा है क्या?”

Me “ नहीं इन सब के लिए मेरे पास टाइम नहीं है , जब घर बैठे सब कुछ मिल रहा है तो बहार क्यों जाना,|”

वो मुस्करा कर बोली हए मेरे राजा क्या बात बोली है तूने, उसने मेरा लण्ड को मुँह में भर लिए और सुपडे को चूसने लगी, सुपाडे को चूस चूस के उसने टमाटर जैसा कर दिया,लण्ड पत्थर जैसा कैड़ा हो गया था, फिर उसने टटो को मुँह में लेके चूसने लगी वो भी गरम होने लगे, लग रहा था की की मैं वहीँ झड़ जाऊंगा , मैंने उसके रोक दिया,

Me” रानी बस रुक जा”

She” क्या हुआ?”

Me” निकल जायेगा अभी रुक जा थोड़ी देर,” उसने लण्ड को छोड़ दिया और कड़ी हो गयी,मैं बैठ गया और, उसके पेट को चूमने लगा, उसकी नाभि को अपनी जीब से सहलाने लगा,धीरे धीरे नीचे जाने लगा, मैंने धीरे से उसकी कच्छी उतार दी , और उसकी चूत के ऊपरी हिस्से को चूमने लगा. और उसको बिस्तर पे लेटा दिया, और उसने अपनी टाँगे फैला ली ,बोली अब मेरी बारी, मैंने उसकी चूत को चूमने लगा, और हलके हलके जीब से सहलाने लगा, वो गरम हो चुकी थी.फिर मैंने उसकी चूत की फलकों को फैलाया और हलके से उसके दाने को सहलाया , वो तिलमिला उठी, अह्ह्ह , मैं उसे चाटने लगा ,और एक ऊँगली उसके चूत में डाल दी,

She” हम्म्म अह्ह्ह धीरे धीरे कर जल्दी मत कर’ वो अपने मज़े के हिसाब से मुझे बता रही थी, मैं भी जैसे वो कह रही थी वैसा कर रहा था,. I bent my finger and tried t reach her G spot,  she buzzed at each try she was having mixed reactions of pain and pleasure, जैसे तैसे मैंने उसके वो सवेंदनशील हिस्सा ढूंढ लिया और धीरे धीरे उसे रगड़ रहा था , वो पूरे पूरे मज़े ले रही थी, ये तो दिख रहा था की उसे ये एहसास अब तह नहीं हुआ था, वो तड़प रही थी के रही छोड़ मत करता रह , बहुत ाचा लग रहा है , मैं उसकी चूत में दो ऊँगली चला रहा था, वो रिसने लगी थी, उसका पानी रिस के बिस्तर पे गिर रहा था, वो जब जब मैं अपनी ऊँगली मोड़ता तब तब वो अहह भरती , अह्ह्ह सी सी , मैं तस्सली से ऊँगली आगे पीछे कर रहा था. तभी उसने मुझे रोक दिया.

She” रुक जा मुझे हो जायेगा,तू पास आ,” मैं तुझे भी करती हू. कह उसने मेरा लण्ड पकड़के अपनी तरफ बुला लिया और चूसने लगी,लण्ड अभी भी खड़ा था,

Me “रानी रुक जा नहीं मुझे हो जायेगा , वो नहीं मान रही थी, मैंने उसे रोक दिया नहीं रानी छोड़ दे सारा मज़ा खराब हो जायेगा, वो रुक गयी,और बोली हाँ मैं भी नहीं चाहती की अभी झडूं , मैं उसके साथ बैत गया और पुछा बता क्या मांग रही थी, तू? बोली कुछ नहीं बता दूंगी, मैंने उससे पुछा , बता रानी तू मेरे पास क्यों आती है,? क्या रमेश अब कुछ नहीं करता ?

She” कहाँ अब कुछ नहीं होता , बच्चे भी बड़े हो गए है,और वो भी अब पैसा कमाने में लगा है, टाइम नहीं है उसके पास.

Me” बच्चे कितने बड़े है तेरे?

She” लड़की 15की हो गयी है और बेटा 17 का है, I was shocked to hear this, I am screwing a woman whose son is only a little younger to me,

Me” अरे तेरा लड़का तो मुझ से थोड़ा ही छोटा है, और तू मेरे साथ लग रही है.”

She” मेरे भी कुछ अरमान है, इतने साल दबा रखा था पर तूने फिर जगा दिए, मैंने आज तक रमेश के आलावा किसी को देखा तक नहीं है, ये सब तो दूर की बात है, जाने तेरी बातों का क्या असर हुआ मुझे की अपने आप को रोक ही नहीं पायी, और ये हो गया,. She was becoming sentimental, so I tried to handle the matter.

Me” जाने दो इन बातों का कोई फ़ायदा नहीं है, हम एक दुसरे के काम आते है यही बहुत है,” जब तक चल रहा है चलाओ.बाकी बाद में देखेंगे, she was silent for a while then

She “कभी कभी तो सोचती हु की अपनी गलती मान लू और ये जगह छोड़ गांव चली जाऊ , पर बच्चों की पढ़ाई का सोच के छोड़ देती हूँ, और यहाँ ा जाती हूँ, सही कह रहा है जैसे चल रहा है चलने दो , और वैसे भी अपने बारे में सोचने का हर किसी को हक़ होता है, वो खड़ी हुई और मेरे सामने कड़ी हो गयी, और मेरे हाथ लेके अपने मुम्मो पे रख दिए , बोली चल मेरे काम आ, मैं उसके मुम्मे चूसने लगा और दुसरे हाथ से उसकी चूत हलके हलके दबाने लगा, उसने अपने पैर चौड़ा लिए और मैंने समझते हुए ऊँगली उसकी चूत में डाल दी, चूत पूरी गीली थी, वो लेट गयी और बाहें खोल के मुझे आने का इशारा किया , मैं उसके ऊपर लेट गया और मुम्मो को पकड़ के चूसने लगा ,उसने हाथ बड़ा के लण्ड को अपनी चूत में ले लिया , मैंने एक ही झटके में पूरा अंदर डाल दिया, उसकी आह्ह निकल गयी,

Me “क्या हुआ ज़ोर से हो गया क्या? “.

She” हाँ, अंदर लगा हाँ, थोड़ा आराम से कर अपनी जवानी मत दिखा मुझ पे, “मुझे भी दर्द होता है. मैं फिर आराम से करने लगा, वो नीचे से बातें कर रही थी, रुक रुक के डाल, ऐसे ज़ायदा अच्छा लगता है,

कभी बोले के पूरा अंदर डाल के रुकजा और रगड़ ता रह,बहुत कुछ डिमांड कर रही थी.

Me” रानी तुझे हो भी रहा है या सिर्फ मज़े ले रही है?

She|”जल्दी क्या है? कोई आने वाली है क्या?

Me” नहीं ऐसा कोई नहीं है जो आये, “मैं उसे फिर चोदने लगा, मैंने उसकी टाँगे उठा दी,और अपने कहदे पे रखनी चाही वो चीला पड़ी, अरे थोड़ेगा क्या, ऐसे कैसे करेगा, बहुत फिल्मे देखता है! मैं रुक गया और बोला ऐसे कर के तो देखो, बहुत अंदर तक जायेगा,

She” रहने दे पूरा अंदर जा तो रहा है अब क्या पेट तक पहुंचाएगा? “

मैंने धीरे से उसके दोनों पेअर उठा के अपने कंधे पे टिका दिया , और लण्ड उसके चूत पे रख दिया, और धीरे से डाल दिया. उससे बैलेंस नहीं हो प् रहा था, मैंने ऐसे पहले बार किया था, गलती से झटका ज़ोर से लग गया और लण्ड पूरा घुस गया , उसकी चीख निकल गयी, हाए, क्या कर रहा है धीरे कर पेट में दर्द हो रहा है, पैर छोड़ मेरे, मैंने उसे कास के पकड़ लिया और गहरे झटके मारने लगा, मुझे वैसे बहुत मज़ा आ रहा था , लण्ड बहुत सट के जा रहा था, वो छुटा ने के लिए तड़प रही थी, धीरे धीरे उसकी कोशिश हलकी हो गयी और उसे भी अच्छा लगने लगा, लण्ड अंदर टकरा रहा था, बीच बीच में उसे दर्द भी हो रहा था, मैं झड़ने वाला था. वो समझ गयी , और कहने लगी, अभी मत कर रुक जा, मुझे भी होगा, रुक जा अभी, मैं रुक गया, वो कहने लगी दर्द हो रहा है पैर छोड़ दे , मैंने ऊके पैर छोड़ दिए, लण्ड अभी उसके अंदर ही था, मैं धीरे धीरे आगे पीछे करने लगा,वो भी मेरी कमर पकड़ के उलटे झटके लगा रही थी, उसने अपने होटों से मेरे होंठ पकड़ लिए और चूसने लगी, वो झड़ना शुरू हो रही थी, उसका शरीर कांपने लगा, उसने मुझे कास के पकड़ लिए और अपनी टांगो से मुझे जकड लिए, और ज़ोर ज़ोर से करहाने लगी मैंने आवाज़ रोकने के लिए उसके होटों को अपनों में दबा लिए, मैं भी झड़ने वाला लगा , मैंने दो तीन ज़ोरके झटके लगाए उसकी चीक निकल गयी, और मैंने सारा माल उसकी चूत में ही निकाल दिया, मैं कम से कम बीस सेकंड तक झड़ता रहा, मैं वैसे ही उसके ऊपर पड़ा रहा वो मेरे पीठ सेहला रही थी, कह रही थी बस कर और कितना छोड़ेगा , पूरा भर गया है , मैंने लण्ड बाहर निकाला और माल उसके छूट से बहने लगा.

She” क्या खाता है तूने तो भर दिया, क्या इतने दिनों से हल्का नहीं हुआ?” “

Me” इतने दिनों से तूने कुछ किया ही नहीं तो हल्का कहाँ से होता, और कोई है भी नहीं जो हल्का कर दे! “

She” क्यों हाथ से निकाल लेता, जिनके पास नहीं है वो ऐसे ही करते है. “

Me” अब तो हाथ से मज़ा ही नहीं आता, कोई चाइये, “

She” क्यों तेरी कोई दोस्त नहीं है? “

Me” नहीं ज़रुरत नहीं है, और वैसे भी यह सब करने के बाद क्या पता किसका क्या दिमाग चले. मेरे लिए तो तुम ही ठीक हो,“

She” तू अपने उम्र की ढूंड, मैं कब तक तेरा साथ दूंगी? और वैसे भी तू मेरे आधे उम्र का है, कल को जोश जोश में तूने मेरी फाड़ दी तो जवाब देना भारी पड़ जायेगा, उस दिन भी पीछे से कर तो लिए पर कई दिनों तक दिक्कत हो गयी थी,” इसलिए कहती हु कोई ढूंड ले,

मैं समझ रहा था की अब वो अपनी गलती को सुधारने की कोशिश कर रही है,

Me” रानी तू क्या कहना चाह रही है? क्या तू पीछे हट रही है?” अगर ऐसा है तो साफ़ बोल दे कहानी मत बना,

She” नहीं ऐसा कुछ नहीं है, मैं कोई पीछे नहीं हट रही, मैं हटना भी चाहु तो भी नहीं हट सकती,”

I knew she wasn’t going anywhere. I was toying am toying with her, even I am a little bored with her,

I need someone new, but who wants to go out and find one when I have a mature woman with perfect assets to pleasure me, whenever I need and she enjoys herself to the full and the greatest part, No commitments.

Me” तो यह फ़ालतू बात बंद कर,” और जो बात कर रही थी वो बता,” वो वाशरूम चली गयी, बोलके मैं पहले साफ़ होक आती हु, तूने तो थोक के भाव से निकाल है. थोड़ी देर बाद वो आई और कपडे पहनने लगी.

Me” क्या हुआ कही जा रही है,?”

She” काम है जाना पड़ेगा,क्यों न जाऊ ? I hadn’t had enough so I asked her to take leave and stay with me,

Me” हाँ रुक जाओ मज़े करेंगे तुम्हारा जन्मदिन भी है, छुट्टी ले लो आज,” she thought for a moment and said ok,

She” ठीक है नहीं जाती,बता क्या मज़े करेगा,|” मैं उसके करीब गया और उसको कमर से पकड़ लिया और कसते हुए बोला रानी मेरी जान जो तू बोलेगी वो मज़े करेंगे, वो बोली पहले जा नाहा ले, मैं बोला चल साथ नहाते है, वो कपडे पहन चुकी थी, कहने लगी नहीं मैं नहीं तू नाहा ले तब तक मैं काम ख़तम कर लेती हु, फिर फ्री हु मैं,. मैं उसे पकड़ने वाला ही था की घंटी बजी, उसने मुझे अंदर जाने का इशारा किया और अपने आप को ठीक करके दरवाज़ा खोला, एक लड़की थी दरवाज़े पे,पता नहीं क्या बात कर रही थी, पर लड़की मस्त थी, कुछ देर बात करके, उसने उसे भेज दिया, मैंने पूछा कौन थी,? बोली मेरे दूर की रिश्तेदार है, काम ढून्ढ  रही है,

बेचारी मुश्किल में है. मैंने थोड़ा इंट्रेस्ट दिखाते हुए पूछा क्यों क्या हुआ? बोली बेचारी की दो  महीने पहले शादी हुई है, परिवार ने जल्दी में शादी करा दी सोच के की एकलौता लड़का है, लड़की खुश रहेगी, पर सब उल्टा हो गया.

Me” क्यों क्या हो गया?

She” कुछ नहीं उस लड़के के बस की नहीं है, कुछ नहीं कर पता वो, सुना है की वो लड़को से लगता है,

Now the topic was getting interesting. मैंने और पूछा, ऐसे कैसे,

She” बस ऐसे ही है आज कल कुछ पता नहीं चलता, पर तू क्यों इतना पूछ रहा है? वैसे मैं इसी के लिया बात करने वाली थी.

Me” इस के बारे में?.

She” मैं कह रही थी इसको यहाँ लगवा दू,” my heart missed a beat.

Me” क्या”? और तू ? ये सब मत कर. बोली पहले सुन तो ले,मैं इसे यहाँ लगा देती हु, और इसका भी भला हो जायेगा, मैंने कहा क्या चल रहा है तेरे दिमाग में? बोली ये बहुत परेशान है और बहुत सीधी है, जो भी मिलेगा उसमे मान जाएगी, और मुझे बहुत मानती है, कही और जाएगी भी नहीं,

Me” इसका मतलब तू यहाँ काम नहीं करेगी?”

She” मैं कही नहीं जा रही , तू बस मुझ पे छोड़ दे,” मैं कुछ समाज नहीं पा रहा था, इतने में फिर घंटी बजी , मैं नहाने चला गया, जब मैं नाहा के आया टी मैं सीधा ड्राइंग रूम में चला गया, मैंने देखा की वो लड़की वह नीचे बैठी हुई थी, मुझे देख के कड़ी होगयी और नमस्ते करने लगी, मैंने रानी को बुलाया,और पूछा ये यहाँ क्या कर रही है, रानी बोली कुछ नहीं ये मेरी रिश्तेदार है , अभी मेरे साथ ही घर जाएगी, मैं तो मूड बनाने की सोच रहा था, और ये जाने की बात कर रही है,मैं रानी को किचन में ले गया, और बोलै तू ये क्या कर रही है, जा रही है? वो मुझे छेड़ते हुए बोली अरे मेरे राजा, तू रुक तो सही, मैंने सब संभाल रखा है,ये कह के वो ड्राइंग रूम में चली गयी, और मेरे से बोली इसका नाम अनीता है, ये मेरे रिश्ते में है, मैंने उसकी तरफ देखा तो वो कुछ घबराई हगोइ दिख रही थी,मैंने उससे कहा बैठ जाओ, वो बोली नहीं भइया ठीक है, मैं अंदर चला गया, रानी उसे लेके किचन में चली गयी, थोड़ी देर बाद रानी कमरे में आई और बोली कैसी है? मैंने कहा क्या, बोली ज़्यादा बन मत है न सुन्दर , मैं बोला ठीक है, बोली ठीक कुवारी है अभी और पूरा ख्याल रखेगी तेरा भी और बाकियो का भी, ये मेरे गारंटी , मैं कुछ नहीं बोला, मम्मी देखेगी, बोली भाबी को मैं मन लुंगी,

I had a mixed feeling about this arrangement, but still I took her word and said ok,

वो मेरे सामने खड़ी हो गयी और अपनी कमीज ऊपर करने लगी, मैं डर गया , ये क्या कर रही है वो आ गयी तो? बोली नहीं आएगी मैं समझा के आई हु , आखिर अपनी बहन की मानेगी या नहीं, मैं घबरा के बोला, तू तो कह रही थी की ये बात किसी को पता नहीं चलनी चाइये,और अब ये? बोली मेरे राजा तू बहुत भोला है, चिंता न कर ऐसा कुछ नहीं करुँगी जिससे हम दोनों में से किसी की बदनामी हो,यह कह के उसने, अपना ब्रा भी उतार दिया, और मेरा मुँह अपने मुम्मो पे लगाने लगी , घबरहाट से मुझसे कुछ नहीं हो प् रहा था, वो मुझे इस हालत में देख हसने लगी बोली तू घबरा क्यों रहा है? मैं हूँ न, मेरा दिमाग अनीता पे था.

Anita was good looking she was wheatish complexion, and on the heavier side not fat but sexily chubby, she had full tits,  a little more than raani, and overall sexy, and an added qualification she was a virgin.

मैंने अपना दिमाग वहां से हटा के रानी के मुम्मो पे लाया , और उसके मुम्मो को चूसने लगा, वो बोली ये हुई न बात , घबरा मत मैंने सब सोच लिया है, मेरा लण्ड खड़ा होने लगा एक अजीब सी उत्तेजना थी की दुसरे कमरे में कोई है और हम यहाँ चोदा चादि कर रही है, उसे भी इस कारण ज्यादा उत्तेजना होने लगी थी, वो मुझे लेता के मेरे ऊपर बैठ गयी और मेरे सीने पे चूमने लगी, और अपने मुम्मो को मेरे सीने से रगड़ रही थी और अपने निप्पल को मेरे निप्पल से लगा रही थी,मैंने उसकी सलवार खोल दी और उतार दी और उसने मेरे शॉर्ट्स उतार दिए , अब मेरा सारा डर ख़तम हो चुका था, लण्ड खड़ा हो गया था , रानी तो पूरी तरह से गरम हो चुके थी , वो फिर मेरे ऊपर आ गयी और मेरे निप्पल चाटने लगी, और लण्ड को ऊपर से ही सहलाने लगी, बोली तू तो पूरा तंत है, इतने में आहट हुई और अनीता ने इसे आवाज़ दी , ये बोली ” रुकजा आ रही हु” इसने कमीज पहनी और चली गयी, मैं वहीँ पड़ा रहा , थोड़ी देर बाद आई, बोली जाने के लिए कह रही है, मैं बोला ऐसे आधे में छोड़ के जाओगी? वो बोली न रे पागल मैं उसे बैठा की आई हु, की दोपहर में चलेंगे. मैंने कहा उसे शक नहीं होगा की तू अंदर क्या कर रही है?

She” तो क्या यही बुला लू? “उसका मन भी बहल जायेगा.

I jokingly said” ख्याल तो अच्छा है, ऐसे कुछ सीख बभी जाएगी, बेचारी यह सुख तो है नहीं उसके नसीब में.”

She” तुझे बड़ी चिंता हो रही है, बोले तो बुला दू,”.  She took off her clothes,

Me” अरे आ न जये वो , तू कपडे उतार रही है,” she quickly undressed me, and sat on top of me,

She” क्यों डर रहा है , वैसे भी उसे पता तो चलना ही है आज नहि तो कल.

Me “क्या मतलब तू चाह रही है उसे पता चल जाये?” she started sucking my cock in between this conversation, within no time I fully erect, there a weird type of excitement.

She” तू चुप चाप यहाँ ध्यान दे बाकी सब मुझ पे छोड़ दे, तेरे पे कोई बात नहीं आएगी,” this relaxed me a bit, and she mounted me , and in one go my entire cock was inside her love hole , she was fully wet,

She” अहह यह मुझे बहुत अच्छा लगता है, अंदर पेट तक जाता है, और वो ऊपर से झटके मारने लगी,”

मैं उसके निप्पल दबा रहा था, इतने में मुझे लगा की कोई है, देखा तो अनीता दरवाज़े पे खड़ी थी मैंने ,कहा रानी अनीता , मेरे मुँह से बस इतना ही निकल पाया, रानी ने मुड़ के पीछे देखा,और बोली तू यहाँ क्या कर रही है , तुझे कही थी न यहाँ नहीं आना, वो घबरा के बोली दीदी , मैं . वो घबरा गयी थी, मेरा लण्ड बैठ गया था, रानी मुझपे नाराज़ होने लगी अब तुझे क्या हो गया ,वो किस्या रही थी,

Me” अरे मुझ से क्यों खिस्या रही है, मैं तो कह ही रहा था, तू ही जायदा शेर बन रही थी अब संभाल , मुझे नहीं पता, वो मुझ पे से उतर गयी और उसने जल्दी से सलवार कमीज पहनी और, मैंने कहा जो भी करो आराम से कोई शोर शराबा नहीं होना चाइये, मेरी फट रही थी. वो ड्राइंग रूम में गयी मैं कमरे के दरवाज़े पे खड़ा सुनने लगा उसके पास गयी, वो डर के मारे पसीना पसीना हो रही थी.

Raani” मैंने तुझे कही थी न की कमरे में नहीं जाना फिर क्यों आई? वो सहम गयी थी ,

Anita” जीजी वो. वो बुरी तरह डरी हुई थी,मैं घबरा रह था की कही वो बेहोश न हो जाये.

Raani “क्या बोलती क्यों नहीं है, क्या देखा तूने? बोल! अनीता चुप कड़ी थी, रानी ने उसके कंधे पे हाथ रखा और बोली देख , जो तूने देखा, सो देखा अगर तू यहाँ रहना चाहती है और खुश रहना चाहती है तो सब भूल जा, यहाँ काम कर और खुश रहेगी हर तरह से , ये बहुत अच्छे  लोग है, मैं यहाँ बहुत सालों से काम कर रही हु, अनीता सुन रही थी, वो बोली पर जीजी वो तो आप से बहुत छोटे है , फिर भी आप? रानी ने उसे चुप करते हुए बोला देख, मेरा जो है उसे तू छोड़ दे , अगर खुश रहना चाहती है तो बोला बात करती हु, नहीं तो तेरी मर्ज़ी, तेरे मइके वाले तुझे लेके नहीं जायेंगे, ससुराल वाले जब तक कुछ लाके नहीं देगी तब तक रोटी नहीं देंगे, और तेरा आदमी कभी तुझे खुश नहीं रख पायेगा, सोच ले अच्छे से. I was amazed at how raani was handling the situation; Anita was totally brainwashed she was listening to raani,

Raani” बता फिर क्या सोचा तूने, सब भूल के यहाँ काम करेगी या?”

Anita” नहीं जीजी आप जैसे बोलोगी वैसे करुँगी, मुझे बस खुशी चाइये,”

रानी ने उसे गले लाते हुई बोले , बहुत अच्छे ये मेरी गारंटी है क तुझे यहाँ कोई दिक्कत नहीं आएगी,फिर रानी ने उससे पुछा कमरे में क्यों आई थी,

Raani” अब बता कमरे में क्यों आई थी? क्या चाइये था?

Anita” नीचे देखती हुई बोली वो जीजी आवाज़े आ रही थी, तो मैंने सोचा की चल के देखू की !”

क्या फ़ायदा हुआ तूने अपना दिमाग भी खराब किया और मेरा भी, आवाज़ दे देती. रानी कमरे में आई मुझे देख के बोली, अरे तू सारी बातें सुन रहा था?

Me” क्या कह रही है , किसी से बोलेगी तो नहीं?”

Raani”  अरे नहीं, उसकी चिंता मत कर मैं इसे जानती हू. यह नहीं बोलेगी”

Me” पक्का न नहीं तो दिक्कत हो जाएगी”

Raani” मेरे गाल पकड़ते हुए बोली नहीं मेरे राजा टेंशन मत ले,” उसने जो अनजाने में देख लिया है वो अब मैं उसे जानबूज के दिखाउंगी, पर आज नहीं, आज मैं चलती हू,शाम को आके भाबी से बात कर जाउंगी, तू सामने मत रहियो, और आज बाकी जगह काम कर लेती हू,कल छुट्टी लूंगी.

वो अनीता को लेके चली गयी, मैं भी थोड़ा आराम से हो गया की सब संभल गया , लण्ड तो बिकुल निढाल हो गया था, खैर दिन बीत गया बाकी कामो में , मैं दोस्तों के साथ घूम के आया और घर आ के , मम्मी ने बताया की कल से रानी के साथ एक और लड़की आएगी, नै है थोड़ा ध्यान रखियो, कुछ गड़बड़ लगे तो रानी को बता दियो, मैंने मन में सोचा कुछ गडबाद नहीं होगी , बेटा अब दो दो के साथ करेगा, पता नहीं ये ख़याल कहाँ से मेरे दिमाग में आया , शायद रानी की बात मेरे दिमाग में थी,

The Next Day , it was 11.30 am when the bell rang, I opened to find raani and anita, I let them in, Raani took her to the kitchen while I watched TV, after a while raani was sweeping the floor, she looked at me and smiled naughtily, she is a nymphomaniac I guess, always ready for sex with me ,

She came near me “और मेरे सामने कड़ी हो गयी, बोली क्या हाल है तेरे?”

Me “बहुत बढ़िया तू बता कुछ बात हुई कल को लेके?

She” हाँ बात तो हुई  थी, किसी से नहीं बोलेगी, तू उसे छोड़ , आज मुझे कही नहीं जाना, हर जगह से काम ख़तम करके आई हूँ, शाम तक फ्री हूँ तू बता, क्या इर्रादे है,?

Me” रानी तू तो बस , फिर वो है तेरे साथ, कल की तरह कुछ होगा और तो आधे में छोड़ के जाएगी, और तू कितनी ठरकी हो गयी है ,”

She” मैं कमरे में जा रही हूँ तू भी आजा,” वो मटकती हुई कमरे में चली गई,

मैं किचन के तरफ गया देखने की अनीता क्या कर रही है , वो बर्तन कर रही थी , मैं भी कमरे में चला गया, रानी झुक के सफाई कर रही थी, मैं पीछे से गया और उसके गांड पे एक चपत लगा दी , वो हंस के बोली, क्या बात है, मैंने, उसके चूतड़ दबाते हुए कहा,कुछ नहीं आज छोटू पीछे जाना चाहता है,

She” न रे बाबा पीछे नहीं कुछ मज़ा भी नहीं आता और दर्द होता है वो अलग, जो चीज़ जहाँ के लिए बानी है वो वहीँ जानी चाइये.

मैंने बहुत मनाया पर वो नहीं मानी, मैंने उसे पकड़ के चूमना शुरू किया,वो तुरंत हे साथ देने लगी और उसने मेरी टी शर्ट उतार दी, और मेरे सीने को चूमने लगी और वो आवाज़ भी बहुत कर रही थी हम्म अहह अहह , मैंने उसे चुप भी कराया धीरे वो आ न जाये, वो दबी आवाज़ में बोली आती है तो आने दे, मैं उसके मुम्मे सलवार के ऊपर से ही दबा रहा था, वो मेरे होठों को चूमने लगी, और हाथ ऊपर करके कमीज उतारने का इशारा किया, मैंने उसकी कमीज उतार दी, उसने शमीज़ पहन राखी थी,उसके खड़े निप्पल उस पतले कपडे से चमकराहे थे, मैंने उसके निप्पल को हलके से जीब से सहलाया, उसने शमीज़ ऊपर करके कहा ठीक से चाट, मैं उसके मुम्मो को पीने लगा, वो बहुत जल्दी में थी, उसने मेरे शॉर्ट्स उतार दिए और लण्ड को मुँह में ले लिया, और जुगत से चूसने लगी, वो मेरे पैरों के बीच में बैठ के चूस रही थी, मैंने ऊपर देखा तो मेरे पैरों तले, ज़मीन निकल गयी, सामने दरवाज़े पे अनीता कड़ी होक हमे देख रही थी, मेरे मुँह से निकला रानी, पैर रानी सुने तब न वो तो चूसे जा रही थी, और अनीता लगातार हमे देख रही थी , जब लण्ड थोड़ा ढीला पड़ा तब रानी ऊपर देख के बोली क्या हुआ ढीला कैसे? फिर उसने पीछे देखा, अनीता भाग गयी, मैंने रानी को डांटते हुए बोलै ले लेले अब फिर वही बसूड़ी हो गयी, रानी चुप चाप खड़ी हुई और जिस हालत में थी वैसे ही किचन में चली गयी.

मैं जल्दी जल्दी कपडे पहनने लगा,इतने में रानी अनीता क लेके कमरे में आई..

Me” ये क्या कर रही है, इसे क्यों ले आई,?”

Raani” इसे देखना है तो अब ये यहाँ बैठ के देखेगी.

Anita” नहीं जीजी माफ़ कर दो अबसे नहीं होगा ऐसा!

Raani “नहीं तू देख अब की कैसे क्या होता है, अनीता रोने लगी,

अनीता रोने लगी, रानी मेरे पास आई और उसने अपनी शमीज़ उतार दी, मैं हैप रह गया, मैं बोला रानी ये क्या कर रही है? पागल तो नहीं हो गयी?

Raani” नहीं पागल नहीं हुई हु, मैं अपनी बहन को ऐसे तड़पता हुआ नहीं देख सकती, इस लिए अगर आज इसने अपने आप से शुरुआत नहीं की तो कोई इसका कुछ नहीं कर सकता, ये बोले उसने मुझे चूमना शुरू किया, और मेरे शॉर्ट्स में हाथ डालने लगी..मैं उसे रोकने लगा पर वो मुझ पे हावी हो गई,  मैंने अनीता की तरफ देखा, उसने शर्म से चेहरा फेर लिया, रानी ने मुझे बिस्तर के धेकेल दिया, और मेरे सामने कड़ी हो गई, उसके मुम्मे बिलकुल मेरे मुँह के सामने लटक रहे थे.

Raani” उसे क्या देख रहा है , जो तेरे सामने है उसे देख, ले पी इन्हे, कह के वो अपने मुम्मे को मेरे मुँह पे लगाने लगी, मैंने धीरे से उसका निप्पल मुँह में लिया और हलके से काटा,

Raani” अहह हए, उसके आवाज़ सुनके अनीता उछल पड़ी, और हमे देखने लगी, मैं उसे देखता हुआ रानी के निप्पल पे अपनी जीब घुमा रहा था, मैंने रानी की सलवार खोल दी,और उसकी कच्छी में हाथ डाल के उसके चूतड़ दबाने लगा, मुझे एक अजीब सा मज़ा आ रहा था. मैं चाह की वो हमें सेक्स करते हुए देखे, अनीता के हाथ कांप रहे थे, मैंने धीरे धीरे रानी की कच्छी नीचे सरका दी और उसे बिस्तर पे लेटा दिया, और उसके टांगो के बीच बैठ के उसकी टाँगे फैला दी , और अनीता के तरफ देखता हुआ अपनी जीब उसकी चूत पे फेरने लगा, अनीता लगातार मुझे देख रही थी, मैं रानी की चूत चाटने लगा , रानी और ज़ोर से करहाने लगी अहह अह्ह्ह हम्म हए, साहिल ऊँगली डाल अंदर , ठीक से चाट , मैंने ऊँगली से छोड़ना शुरू किया , वो तड़प उठी, हए आह्ह मेरे राजा ,और अंदर कर झाड़ दे मुझे, मैंने पलट के अनीता को देखा, वो कांप रही थी. वो गरम हो रही थी, वो कभी मुझे देख रही थी कभी रानी को, मैंने उसकी तरफ देख उसे आने का इशारा किया, उसने मना कर दिया, मैं फिर रानी पे लग गया, रानी भी बहुत उत्तजित हो चुकी थी, वो झड़ने के करीब थी, वो उत्तेजना में अपने निप्पल चूस रही थी, मैंने उंगली चलना रोक दिया, और अपनी शॉर्ट्स उतार दी, लण्ड लपक के बाहर आ गया , उसे देख अनीता के मुँह से हए निकल गया , मैंने उसे दिखाते हुए, अपना लाल सुपड़ा दिखाया , और उसे रानी के चूत पे रख दिया,मैं लगातार अनीता को देख रहा था, और वो लण्ड को. मैंने हल्का सा डाला और निकाल लिया,

Raani” अरे तड़पा क्यों रहा है, डाल न, चोद मुझे जल्दी कर भर मेरी चूत को.” मैंने फिर धीरे से डाला , और पीछे खींचा , और फिर एक ज़ोर के झटके से पूरा लण्ड उसके चूत में भर दिया, उसके मुँह से एक हलकी सी चीख निकली हए मेरे राजा , सही है , मैंने झटके मारने शुरू किये, रानी पैर उठा उठा के चुद रही थी,

और अनीता हमे देख देख के बावली हो रही थी, मैं जान गया की यही मौका है , मैंने लण्ड पूरा अंदर डाल के रुक गया,

Me” अनीता आजा हमारे साथ.” मज़ा आएगा.

Raani” तू मुझे पहले देख , उसे बाद में बुला! तू यहाँ दिमाग लगा. मैंने फिर लण्ड बाहर निकाला जो की गीला हो के चमक रहा था , मैंने फिर अनीता को देखा, वो गरम हो चुकी थी पर हिम्मत नहीं कर पा रही थी, मैंने रानी को चोदना शुरू किया, वो पुरे मज़े लेके चुद रही थी, मेरा भी टाइम होने लगा था, मैं ताकतवर झटके देने लगा , टकराने की पट पट की आवाज़ आ रही थी, रानी अकड़ने लगी, उसकी साँसे तीज होने लगी, और वो काफी ज़ोर से झड़ने लगी, हए मेरे राजा अहह अहह उसने मुझे कस के पकड़ लिया और नीचे से झटके लगाने लगी, मैं उसे गहरे झटको से चोद रहा था,वो शांत होने लगी, मैंने  अनीता को वो पसीना पसीना ही रही थी, वो मुझे झटके मारते हुई देख रही थी, उसे देखते हुए मैं झड़ने लगा, मैंने लण्ड निकालके रानी पेट पे रख दिया और रानी ने तुर्रंत लण्ड पकड़ के हिलाने लगी, और मुझे झाड़ दिया, मैं उसके ऊपर ही झड़ने लगा, और उसके ऊपर ढेर सारा माल निकाल दिया, रानी ने बड़े प्यार से आखरी बूँद तक निकाला.

Raani” इतना सारा कहाँ जोड़ रखा था, अच्छा हुआ तूने अंदर नहीं छोड़ा.

Me” तो क्या हो जाता कितनी बार तो हुआ है अंदर ही.

Raani “तू बचा हुआ है, नहीं तो अब तक तो कुछ हो गया होता, .अब हट जा , मुझे धोने दे, कहे के बाथरूम चली गयी, मैं वैसे ही बेड पे बैठ गया, और अनीता से पूछ ही लिया, कुश हुआ तुझे? तेरा मन नहीं करता? इतने में रानी आ गयी और बोली, करेगा इसके भी करेगा बेचारी को एक दो दिन का टाइम दे दे अभी फ्री नहीं है ये!

Anita” क्या जीजी ये सब बताने की क्या ज़रुरत है, वो रूम से चली गयी.

Me” तू क्या इसे यहाँ इसी के लिए लाइ है?

Raani” देख झूट मैं बोलूंगी नहीं, मेरी तेरी उम्र मैं बहुत अंतर है, मेरे से अब ये होता नहीं है, ये शरीफ भी है और मेरे भरोसे की भी है , और इसे काम की ज़रुरत भी है,

Me” अगर कल को कोई दिक्कत करने लगी तो? अभी तो चलो इसे कुछ पता नहीं है, कल को जान जाएगी तब?”

Raani” मुझे पुचकारते हुई बोली अरे मेरे राजा तू उसकी चिंता मत कर, मैंने उसे ऐसी घुट्टी दी है की न ऐसा कुछ करेगी, न कहीं बाहर जाएगी.”

Me” देख ले रानी कहीं दोनों फंस जाए? “

Raani” नहीं ऐसा नहीं होगा, चिंता मत कर, बस एक बात का ध्यान रखियो भी कंडोम के मत करना . मैं ये भी नहीं कह सकती के मेरे बिना भी मत करियो तू मानेगए तो है नहीं!, और मुझे मत भूल जइयो.

Me” चल तू इतना के रही है तो मान लेता हु , पर क्या वो मानेगी? रानी तुझे कैसे भूलूंगा मैं,

She” मानेगी बिलकुल मानेगी, मुझे क्या शौक है ऐसे किसी के सामने ये सब करना का? मैंने उसे समझाया है, पर वो घबरा रही है, कुवारी जो है.” और वैसे भी उसके दिन चल रहे है. मैं मन में बहुत खुश था,क अब दो दो की चूत मिलेगी, उस दिन खुशी में रानी को दो बारी और चोदा मैंने, अलग अलग तरीके से पर अनीता वहां नहीं आई,

दोस्तों आगे की स्टोरी अगले पार्ट में.



Similar articles

My housemaid Raani’s Birthday Bash

My housemaid Raani’s Birthday Bash


My housemaid Raani’s Birthday Bash

My housemaid Raani’s Birthday Bash

My housemaid Raani’s Birthday Bash

My housemaid Raani’s Birthday Bash